Hstory OneLiner Part 42

 

Hstory OneLiner Part 42

 

  • . मुगल साम्राज्य का संस्थापक बाबर को माना जाता है ।
  • 1507 में बाबर ने ‘ पादशाह ‘ की उपाधि धारण की । .पानीपत के प्रथम युद्ध में बाबर ने इब्राहिम लोदी के विरुद्ध ‘ तुगमा नीति ‘ का प्रयोग किया था । पहली बार तोपों का इस्तेमाल बाबर ने पानीपत के प्रथम युद्ध में किया । बाबर ने ‘ तुजुके बाबरी ‘ नाम से तुर्की भाषा में आत्मकथा लिखी ।
  • 23 जुलाई , 1555 को हुमायूँ एक बार पुनः दिल्ली के तख्त पर बैठा । हुमायूँ ने सप्ताह के सात दिन में सात रंग के कपड़े पहनने का नियम बनाया ।
  • चौसा के युद्ध ( 1539 ) को जीतने के बाद शेरखाँ ( अफगान ) शेरशाह की उपाधि धारण कर दिल्ली राजसिंहासन पर आसीन हुआ ।
  • भूमि की पैमाईश के लिए शेरशाह ने 32 अंक वाले ‘ सिकन्दरी गज ‘ एवं ‘ सन की डंडी ‘ का प्रचलन करवाया । शेरशाह ने सिक्का ढलाई के क्षेत्र में चांदी का रुपया एवं तांबे का दाम जारी करवाया ।
  • शेरशाह ने दिल्ली के पुराने किले के अन्दर 1542 में , किला- ए- कुहना ‘ मस्जिद का निर्माण करवाया ।
  • अकबर का जन्म अमरकोट के राणा वीरसाल के महल में हुआ । अकबर को 9 वर्ष की अवस्था में पहली बार गजनी का सुबेदार बनाया गया ।
    • अकबर के अल्पायु होने के कारण 1556-1560 तक मुगल साम्राज्य के शासन की जिम्मेदारी बैरम खाँ के हाथों में रही ।
    • हालैण्ड की डच ईस्ट इण्डिया कम्पनी की स्थापना 1602 में की गयी ।
    • अंग्रेजों ने डचों को 1757 तक भारतीय व्यापार से बेदखल किया था ।
    • अंग्रेजी ‘ ईस्ट इण्डिया कम्पनी ‘ की स्थापना 1602 में की गयी ।
    • अंग्रेजों ने पहली व्यापारिक फैक्टरी 1608 में सूरत में खोली ।

MUST READ THIS

MUST READ THIS

  • अंग्रेजों की ‘ ईस्ट इण्डिया कम्पनी ‘ को सिक्का डालने का अधिकार पहली बार 1617 में मिला ।
  • 1632 में गोलकुण्डा के सुल्तान द्वारा कम्पनी के लिए जारी किये गये फरमान को ‘ सुनहरा फरमान ‘ कहा गया । .
  • 1639 में मद्रास में की गयी किलेबन्दी को ‘ फोर्ट सेण्ट जार्ज ‘ नाम दिया गया ।
    • दक्षिण में अंग्रेजों ने पहली व्यापारिक कोठी की स्थापना 1611 में मसुलीपट्टम में की ।
  • ब्रिटेन के राजकुमार चार्ल्स द्वितीय द्वारा 1668 में बम्बई को दस पौण्ड वार्षिक किराये पर कम्पनी को दे दिया गया ।
    1690 में जाब चार्नाक ने आधुनिक कलकत्ता की नींव डाली ।

 

  • .1698 में अंग्रेजों ने सुतानटी , कालीकट एवं गोविन्दपुर की जमींदारी 1200 रु ० में प्राप्त कर ‘ फोर्ट विलियम ‘ की स्थापना की । इसके पहले अध्यक्ष ‘ सर चार्ल्स आयर ‘ थे ।
  • ‘ फ्रेंच ईस्ट इण्डिया कम्पनी ‘ की स्थापना 1664 में हुई । फ्रैंको कैरो ने सूरत में 1668 में पहली फ्रेंच फैक्टरी खोली । .

 

  • फ्रांसीसियों ने शाइस्ता खाँ द्वारा प्राप्त चन्दरनगर के कारखाने की स्थापना की ।
  • रीसवीक संधि द्वारा फ्रांसीसियों को 1697 में पुनः पाण्डिचेरी पर । अधिकार प्राप्त हुआ । .

 

  • पाण्डिचेरी फ्रांसीसियों का प्रमुख व्यापारिक केन्द्र था ।
  • . डेनिशकम्पनी ( डेनमार्क ) की स्थापना भारत में 1661 में हुई ।
  • 1845 में डेनिश कम्पनी को ब्रिटेन ने खरीद लिया । .
  • मुगल सम्राट फर्रुखशियर द्वारा अंग्रेजी ईस्ट इण्डिया कम्पनी को जारी किये गये फरमान को ‘ कम्पनी का मैग्नाकार्टा ‘ कहा जाता है ।
  • रेड डेगन भारत में आने वाला पहला ब्रिटिश जलपोत था ।
  • सिराजुद्दौला के बंगाल के नवाब बनने पर पूर्णिया के शौकतजंग एवं ढाका की घसीटी बेगम ने इसका विरोध किया । कम्पनी द्वारा व्यापार के क्षेत्र में की जा रही मनमानी से त्रस्त आकर सिराजुद्दौला ने 20 जून , 1756 को कलकत्ता को अंग्रेजों से छीन लिया ।
  • 20 जून , 1756 की रात्रि में चर्चित ‘ काल कोठरी ‘ या ‘ ब्लैकहोल ‘ की घटना घटी । 2 जनवरी , 1757 को क्लाइव ने दोबारा कलकत्ता पर अधिकार कर लिया । 23 जून , 1757 को मुर्शिदाबाद के समीप प्लासी नामक स्थान पर कम्पनी और बंगाल के नवाब के मध्य प्लासी का युद्ध हुआ ।

 

  • 1758 में क्लाइव को बंगाल का गवर्नर नियुक्त किया गया । – क्लाइव ने बंगाल में द्वैध शासन की शुरुआत की , इसके समय में अंग्रेजी सैनिकों ने भत्ते को लेकर विद्रोह कर दिया , जिसे ‘ श्वेत विद्रोह ‘ कहा गया ।

 

  • 1905 में किया गया बंगाल विभाजन कब और किस अवसर पर निरस्त घोषित किया गया – 1911 में दिल्ली दरबार के आयोजन के समय .

 

  • किस योजना के अन्तर्गत ब्रिटिश सरकार ने भारत छोड़ने तथा भारत के विभाजन की घोषणा की थी – • लॉर्ड माउण्टबेटन योजना .

 

MUST READ ALSO

MUST READ ALSO

  • किस क्रान्तिकारी ने कहा था ” हमारे जीवन का उद्देश्य स्वतंत्रता प्राप्ति है . हिन्दू धर्म हमारे इस उद्देश्य की पूर्ति के लिए हमारा पथ प्रदर्शन करेगा ” – अरविन्द घोष

 

  • महात्मा गांधी का लोक सत्याग्रह ( Mass Movement ) का प्रथम प्रयोग कहाँ किया गया है – चम्पारण ( बिहार ) में .

 

  • भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस की प्रथम महिला अध्यक्ष कौन थी – श्रीमती ऐनी बेसेंट .

 

  • भारत के उदारवादी नेताओं में किसे ‘ A silvered Tongued Orator ‘ कहा जाता है-• गोपाल कृष्ण गोखले को .

 

  • अंग्रेजों द्वारा बंगाल विभाजन ( Partition of Bengal ) का वास्तविक कारण क्या था – बंगाल में राष्ट्रीयता के बढ़ने को रोकना
  • बंगाल के नवाब मीरकासिम ने अपनी राजधानी मुर्शिदाबाद से मुंगेर स्थानान्तरित किया । मीरजाफर बंगाल के नवाब को कर्नल क्लाइव का गीदड़ कहा जाता था ।
  • .22 अक्टूबर , 1764 को मुगल सम्राट शाह आलम अवध के नवाब शुजाउद्दौला एवं मीरकासिम की सम्मिलित सेना का मुकाबला अंग्रेजी सेना से बक्सर में हुआ । विजयी अंग्रेजी सेना का नेतृत्व हेक्टर मनरो ने किया था ।
  • .12 अगस्त , 1765 को सम्पन्न इलाहाबाद की संधि के द्वारा कम्पनी को बंगाल , बिहार एवं उड़ीसा की दीवानी प्राप्त हुई । .
  • के ० एम ० पत्रिकर ने बंगाल में क्लाइव के शासनकाल को ‘ लुटेरा राज ‘ की संज्ञा दी ।
  • पिण्डारियों का उन्मूलन वारेन हेस्टिंग्स ने किया । भारत में आधुनिक स्वशासन की शुरुआत लार्ड रिपन ने किया । लार्ड कर्जन ने भारत के प्राचीन स्मारकों के पुनरुद्धार और संरक्षण में विशेष रूप से रुचि दिखाई । .लार्ड वेलेजली की ‘ सहायक सन्धि ‘ के तहत अंग्रेजों के साथ सबसे पहले संधि हैदराबाद के निजाम ने किया ।
  • विवादास्पद व्यपगत नीति ( डाक्ट्रिन ऑफ लैप्स ) के प्रतिपादक लार्ड डलहौजी थे । . कर्नल स्लीमैन ने विलियम बैंटिक के शासनकाल में ठगी प्रथा का उन्मूलन किया । ब्रिटिश संसद द्वारा वारेन हेस्टिंग्स पर महाभियोग चलाया गया था । .बंगाल में द्वैष शासन व्यवस्था को क्लाइव ने शुरू किया और इसे वारेन हेस्टिग्स ने समाप्त किया । 91760 के बांडीवाश के युद्ध में अंग्रेजो के हाथों पराजित होकर भारत में फ्रांसीसी शक्ति का अन्त हुआ । ,
  • अंग्रेजों और मराठों के बीच एवं अंग्रेजों और मैसूर के बीच चार – चार युद्ध हुए ।
    • विवादास्पद इलबर्ट विधेयक का सम्बन्ध फौजदारी दण्ड विधान से है ।
  •  

    MUST READ ALSO

    MUST READ ALSO

    • 1857 के विद्रोह का महत्वपूर्ण कारण आर्थिक शोषण था ।
  • 1857 के विद्रोह का तात्कालिक कारण था ‘ चर्बी लगे कारतूसों ‘ का प्रयोग । ये कारतूस एनफील्ड राइफल में प्रयोग किये जाते थे ।
  • 29 मार्च 1857 को अकेले ही विद्रोह करने वाला मंगल पाण्डे 34 वीं नेटिव इन्फैन्ट्री का जवान था । 10 मई , 1857 दिन इतवार समय 5 से 6 बजे के बीच मेरठ की 20 एन ० आई ० पैदल सैनिक टुकड़ी ने विद्रोह की शुरुआत की ।
    • 11 मई को मेरठ के विद्रोही सैनिकों ने दिल्ली पर अधिकार कर मुगल बादशाह शाह आलम को सम्राट घोषित किया ।
  • उत्तर प्रदेश में विद्रोह के प्रमुख केन्द्र झांसी , मेरठ , लखनऊ , कानपुर , बरेली , अलीगढ़ , आगरा एवं मथुरा थे । बिहार में जगदीशपुर , राजस्थान में कोटा एवं आवा विद्रोह के मुख्य केन्द्र थे ।
    • विद्रोह के मुख्य नेता नाना साहब , रानी लक्ष्मी बाई , तात्या टोपे , कुँवर सिंह , वख्त खान , बेंगम हजरत महल , खान बहादुर खान आदि थे ।
  • विद्रोड़ को कुचलने वाले महत्वपूर्ण अंग्रेज कमाण्डर थे- कॉलिन कैंपबेल , यूरोज , कर्नल नील , हेवलाक , जॉन निकल्सन , विलियम टेलर , विन्सेंट आयर आदि । .
  • 1857 के विद्रोह के समय भारत के गवर्नर – जनरल लार्ड कैनिंग थे ।
  • वीर सावरकर ने 1857 के विद्रोह को राष्ट्रीय संग्राम कहा । .
  • लारेन्स ने 1857 के विद्रोह को ‘ सैनिक विद्रोह ‘ कहा ।
  • .टी ० आर ० होम्स ने इस विद्रोह को ‘ बर्बरता तथा सभ्यता के मध्य युद्ध ‘ कहा ।
  • .1857 के विद्रोह के बाद कम्पनी का शासन समाप्त हो गया । –
  • इलाहाबाद में आयोजित एक दरबार में लार्ड कैनिंग ने क्राउन के घोषणा पत्र को पढ़कर सुनाया । इस घोषणा पत्र को कुछ इतिहासकारों ने ‘ भारतीय स्वतन्त्रता का मैग्नाकार्टा ‘ की संज्ञा दी ।
  • .1770 में बंगाल में हुआ संन्यासी विद्रोह नागरिक विद्रोहों में सबसे था , इस विद्रोह में शामिल सन्यासी शंकराचार्य के समर्थक थे ।
    • बंकिम चन्द्र चटर्जी के उपन्यास आनन्दमठ में संन्यासी विद्रोह का उल्लेख मिलता है ।
  • त्रावणकोर राज्य के दीवान वेला टम्पी ने 1805 में विद्रोह किया ।
  • 1855-56 में हुए संथाल विद्रोह का नेतृत्व सिद्ध एवं कान्हू ने किया । .1822 में हुए रामोसी विद्रोह का नेतृत्व ‘ चित्तर सिंह ‘ ने किया । .
  • असम मे 1833 में हुए ‘ खासी विद्रोह ‘ का नेतृत्व तीरत सिंह ने किया । .
  • असम में 1828 में हुए ‘ अहोम विद्रोह ‘ का नेतृत्व ‘ गोमधर कुँवर ‘ ने किया ।
  • बिहार में 1874 में हुए मुंडा विद्रोह का नेतृत्व बिरसा मुण्डा ने किया । 01879-80 में आन्ध्र के तटीय क्षेत्रों में रहने वाली रम्पा जाति के लोगों ने जमींदारों के नये जंगल कानून के विरुद्ध विद्रोह किया ।
  • पंजाब के ‘ कूका आन्दोलन ‘ के संस्थापक भगत जवाहरमल थे , इन्हें ‘ सैन साहब ‘ के नाम से भी जाना जाता था । .
  • सैय्यद अहमद के नेतृत्व में ‘ वहाबी आन्दोलन ‘ ने ब्रिटिश सरकार के समक्ष गम्भीर चुनौती उत्पत्र की ।
    • किसान आन्दोलनों में 1859-60 का नील आन्दोलन , जिसकी चपेट में बंगाल और बिहार के क्षेत्र शामिल थे , तत्कालीन बड़े किसान आन्दोलनों में से एक था ।
    • निलहों के शोषण के बारे में दीनबंधु मित्र के नाटक ‘ नील दर्पण ‘ में जानकारी मिलती है ।
  • 1875 में ‘ कुन्बी ‘ किसानों का विद्रोह हुआ । .
  • मालाबार के मोपला किसानों ने 1836 से 1854 के बीच 22 बार विद्रोह किया । बंगाल में 1776-77 में हुए ‘ फकीर आन्दोलन ‘ का नेतृत्व मजनूशाह ने किया ।
    • महाराष्ट्र , बिहार एवं मध्य प्रांत के आदिवासी किसानों द्वारा जंगल नियम के विरुद्ध चलाये गये सत्याग्रह को ‘ जंगल सत्याग्रह ‘ के नाम से जाना जाता है ।
    • फरवरी 1918 में ‘ उत्तर प्रदेश किसान सभा ‘ का गठन मदन मोहन मालवीय , गौरीशंकर मिश्र एवं इन्द्र नारायण द्विवेदी के प्रयासों से हुआ ।
  • अक्टूबर 1920 में प्रतापगढ़ में ‘ अवध किसान सभा ‘ का गठन किया गया । रामचन्द्र

 

 

  • . . . उत्तर प्रदेश के जिलो हरदोई , बहराइच एवं सीतापुर में ‘ एका आन्दोलन ‘ चलाया गया ।

 

  • पहली बार किसान आन्दोलन में भाग लेने के कारण जवाहर लाल नेहरू 1921 में जेल गये ।
  • करमशाह के नेतृत्व में अंग्रेजों के विरुद्ध उत्तरी बंगाल में 1840 से 1850 तक पागलपंथी विद्रोह चलाया गया ।
  • ‘ दादमियाँ के नेतृत्व में फरीदपुर ( बंगाल ) में अंग्रेजों के खिलाफ फरायजी विद्रोह चलाया गया ।
  • 1793 में लार्ड कार्नवालिस ने ‘ स्थायी बन्दोबस्त ‘ व्यवस्था को बंगाल और बिहार में लागू किया ।
  • स्थायी बन्दोबस्त की योजना जॉन शोर द्वारा बनायी गयी थी ।
  • 1792 में पहली बार रैय्यतवाडी व्यवस्था कर्नल रीड के प्रयत्नों से बारामहाल जिले में लागू की गयी ।
  • 1822 में अंग्रेजों ने गंगा के मैदान , उत्तर – पश्चिम प्रांतों , मध्य भारत के कुछ भागों और पंजाब में महालवाडी व्यवस्था को लागू किया ।
    • अंग्रेजों ने रैय्यतवाड़ी व्यवस्था को मद्रास एवं बम्बई प्रेसीडेंसी में लागू किया ।
  • मार्टिन बर्ड को उत्तर भारत की भूमि कर व्यवस्था का प्रवर्तक माना जाता है ।
  • कृषि का व्यवसायीकरण सर्वप्रथम बंगाल में किया गया जिसमें सर्वाधिक वाणिज्यीकरण चाय एवं काफी का हुआ ।
  • भारत में ब्रिटिश साम्राज्यवाद मुख्यतः तीन भागों ( क ) व्यापारिक पूँजी का साम्राज्यवाद ( 1756-1812 ) , ( ख ) मुक्त व्यापार पूँजी का साम्राज्यवाद ( 1813-1857 ) एवं ( ग ) वित्त पूँजी का साम्राज्यवाद ( 1858-1947 ) में विभाजित था ।
  • 1756-1812 के काल को निवेश द्वारा भारत से धन के निष्कासन का काल माना जाता है ।
  • ‘ दादनी प्रथा ‘ के अन्तर्गत रुपया पेशगी में किसानों को दिया जाता था ।
  • गवर्नर जनरल वारेन हेस्टिंग्स ने ‘ दस्तक प्रणाली ‘ को समाप्त किया ।
    • धन निष्कासन का सिद्धान्त दादाभाई नौरोजी ने प्रस्तुत किया
  • 1813 के चार्टर एक्ट द्वारा चाय और चीन के साथ व्यापार को छोड़कर शेष सभी व्यापारिक अधिकारों से कम्पनी को वंचित किया गया ।
  • .1833 के चार्टर एक्ट द्वारा कम्पनी के सभी व्यापारिक अधिकार वापस ले लिये गये ।
  • भारतीय दस्तकारी के पतन का मुख्य कारण मशीनी उत्पादों से भयंकर प्रतिद्वंद्विता थी । .
  • भारत में प्रथम विद्युत टेलीग्राफ लाइन कलकत्ता से आगरा के मध्य , प्रथम एयरमेल सेवा इलाहाबाद से नैनी तक तथा प्रथम डाक सेवा कलकत्ता एवं मर्शिदाबाद के मध्य शुरू की गयी ।

 

  • ब्रिटिश सरकार ने भारत में रेलवे में सर्वाधिक पूँजी निवेश किया । – प्रथम विश्वयुद्ध के परिणामस्वरूप देशी उद्योगों को लाभ हुआ ।
  • मदन मोहन मालवीय को 1916 में स्थापित भारतीय औद्योगिक आयोग का सदस्य चुना गया । . कारखाना अधिनियम 1891 में एक दिन के साप्ताहिक अवकाश
  • कारखाना अधिनियम 1881 में बाल श्रमिकों के कल्याण की व्यवस्था की गयी ।
  • . प्रथम विश्व युद्ध के समय पहली बार भारतीय अर्थव्यवस्था में मुद्रास्फीति के लक्षण दिखे ।
  • 1929-33 की महान मंदी का सर्वाधिक बुरा प्रभाव कृषि क्षेत्र पर पड़ा । .
  • वायसराय लार्ड कर्जन के समय में भारत ने ‘ गोल्ड स्टैण्डर्ड ‘ को अपनाया । .
  • भारत में विल्सन के सहयोग से 1859 में सर्वप्रथम कागजी महा की शुरुआत हुई ।
  • भारत में प्रथम नियमित जनगणना की शुरुआत 1881 में वायसराय लार्ड रिपन ने करवाया ।
  • बाल गंगाधर तिलक को बन्दी बनाये जाने के विरोध में 1908 में बम्बई में पहली बार राजनीतिक हड़ताल हुई , जिसकी प्रशंसा लेनिन ने की । .
  • बम्बई में 1920 में ‘ आल इंडिया ट्रेड यूनियन कांग्रेस ‘ A.LTU.C. ) की स्थापना हुई ।
  • अक्टूबर 1920 में आल इंडिया ट्रेड यूनियन कांग्रेस के प्रथम सम्मेलन की अध्य लाला लाजपत राय ने की । .
  • एम ० एन ० जोशी ने 1929 में इण्डियन ट्रेड यूनियन फेडरेशन ( I.TU.F. ) की स्थापना की ।
  • .1921 में एम ० एन ० राय ने ‘ भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी की स्थापना की ।

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *