Hstory OneLiner Part 38

 

  • 22 मार्च , 1940 ई ० को मुहम्मद अली जिन्ना ने मुस्लिम लीग के लाहौर अधिवेशन में प्रसिद्ध द्विराष्ट्र सिद्धान्त का प्रतिपादन किया । ‘ पाकिस्तान ‘ योजना को सर्वप्रथम आंशिक मान्यता 1942 ई ० के क्रिप्स मिशन योजना से मिली ।

 

  • 23 मार्च , 1942 ई ० में स्टैफोर्ड क्रिप्स के नेतृत्व में क्रिप्स मिशन भारत आया । ‘ क्रिप्स मिशन ‘ में भारत को डोमिनियन स्टेटस का दर्जा तथा संविधान सभा के गठन का वादा किया गया । देश के प्रमुख राजनीतिक दलों द्वारा क्रिप्स का प्रस्ताव नकार दिया गया ।

 

  • महात्मा गाँधी ने क्रिप्स प्रस्ताव को आगे की तारीख का चेक ( Post dated cheque ) बताया । बाद में इस वाक्य में जिसका बैंक शीघ्र नष्ट होने वाला था , जवाहरलाल नेहरू ने जोड़ दिया । काँग्रेस कार्यकारिणी ने जुलाई में अपनी ‘ वर्धा बैठक ‘ में 14 जुलाई , 1942 ई ० को भारत छोड़ो नामक प्रस्ताव पारित किया गया । अखिल भारतीय काँग्रेस कमेटी ने बंबई अधिवेशन में गाँधीजी के ऐतिहासिक भारत छोड़ो प्रस्ताव को 8 अगस्त , 1942 ई ० को पास कर दिया । महात्मा गाँधी ने बंबई में करो या मरो ( Do or Die ) का नारा देते हुए भारत छोड़ो आन्दोलन की शुरूआत की । भारत छोड़ो आन्दोलन को अगस्त क्रान्ति भी कहा जाता है । भारत छोड़ो आन्दोलन के समय ब्रिटिश प्रधानमन्त्री विंस्टन चर्चिल थे ।
  • आन्दोलन के दौरान 9 अगस्त 1942 को काँग्रेस के सभी बड़े नेताओं को गिरफ्तार कर लिया गया ,

MUST READ THIS

MUST READ THIS

 

  • काँग्रेस सोशलिस्ट पार्टी के नेताओं ने आन्दोलन को भूमिगत तरीके से चलाने की जिम्मेदारी अपने हाथों में ली । भारत छोड़ो आन्दोलन के शुरूआत के समय भारत का वायसराय लॉर्ड लिनलिथगो था । साम्यवादी दल तथा मुस्लिम लीग ने भारत छोड़ो आन्दोलन में भाग नहीं . लिया तथा ये भारत छोड़ो आन्दोलन के विरोधी थे । तेज बहादुर सा जैसे उदारवादी एवं डॉ ० भीम राव अम्बेडकर जैसे हरिजन नेताओं ने भी भारत छोड़ो आन्दोलन का विरोध किया । । सितम्बर , 1942 को कैप्टन मोहन सिंह ने मलाया में आजाद हिन्द फौज . के प्रथम डिवीजन का गठन किया जो सफल नहीं हो सका ।

 

  • आजाद हिन्द फौज की स्थापना का सर्वप्रथम विचार कैप्टन मोहन सिंह के . मन में आया था । आजाद हिन्द फौज की स्थापना का वास्तविक श्रेय रास बिहारी बोस को है ।
  • सुभाषचन्द्र बोस ने 1943 में आजाद हिन्द फौज का नेतृत्व सम्भाला ।

 

महत्वपूर्ण संक्षिप्त नाम

 

  • ओशो – आचार्य रजनीश
  • एडम स्मिथ – अर्थशास्त्र के जनक
  • एडोल्फ हिटलर            – FURER
  • अल्फ्रेड हिचकॉक – सस्पेंस के मास्टर
  • एंड्रयू डी। सखारोव – हाइड्रोजन बम के जनक
  • बाल गंगाधर तिलक – लोकमAMYA
  • भगत सिंह – शहीद – ए – आज़म
  • सी। राजगोपालाचारी          – राजाजी
  • सी। । एफ। एंड्रयूज – दीनबंधु
  • दादाभाई नौरोजी – भारत के ग्रैंड Oldman,
  • और “भारतीय राजनीति और अर्थशास्त्र के जनक”
  • दादा साहेब फालके – भारतीय सिनेमा पिता
  • एडमंड स्पेंसर –          – कवि के कवि –
  • अर्नेस्ट रदरफोर्ड           -परमाणु भौतिकी के पिता
  • वेलिंगटन के ड्यूक          बर्फ ड्यूक  के
  • फ्लोरेंस नाइटिंगेल          – लेडी लैम्प
  • गियोवन्नी बकासियो          – उपन्यास के पिता
  • गुरचरण सिंह – द ओल्ड मैन ऑफ इंडियन पॉटरी       
  • हेनरिक जे। इबसेन          – आधुनिक नाटक के पिता
  • हेरोडोट्स – इतिहास के पिता
  • हिप्पोक्रेट्स – चिकित्सा के पिता
  • होमी जे। भाभा          – भारतीय परमाणु विज्ञान के पिता
  • इंदिरा गांधी – भारत की लौह महिला
  • जे जे आर डी टाटा          – भारत में वैमानिकी के पिता
  • जमशेद जी। टाटा          – भारतीय उद्योगों के जनक
  • जयप्रकाश नारायण          – लोकनायक
  • जोसेफ प्रीस्टले                                                       – आधुनिक रसायन शास्त्र के जनक।
  • K म । करिअप्पा          – भारतीय अमी के ग्रैंड ओल्डमैन
  • कालिदास – भारतीय शेक्सपियर (भारत के शेक्सपियर)
  • खान अब्दुल गफ्फार खान          – फ्रंटियर गांधी / बादशाह खान / फकर – ए – अफगान एम ।
  • गोवलकर – गुरुजी
  • नंदलाल बोस – भारत के आधुनिक चित्रों के जनक
  • राजाराम मोहन रॉय – भारतीय पुनर्जागरण के पिता
  • समुद्रगुप्त          – भारतीय नेपोलियन
  • सलीम अली – भारत के पक्षी विशेषज्ञ
  • सेंट निकोलस – सांता क्लॉज़
  • सुश्रुत – आधुनिक प्लास्टिक सर्जरी के जनक। ।
  • थॉमस कुक – आधुनिक पर्यटन के जनक
  • TUSAR KANTI घोष          – भारतीय पत्रकारिता के ग्रैंड ओल्ड मैन।             
  • आंध्र केसरी – टी प्रकाशम
  • बंगबंधु – शेख मुजीबुर रहमान
  • बापूजी – महात्मा गांधी
  • अन्ना – सी एन अन्नादुरई
  • चाचा –  जवाहर लाल नेहरू बार्ड –
  • सर वाल्टर स्कॉट – उत्तर के आश्चर्य
  • चाचा हो -डॉ हो ची मिन्ह
  • टाइगर ऑफ़ स्नो – तेनजिंग नोर्गे
  • टी टी के  टी                                                                  टी  कृष्णामाचारी
  • गौरैयाSPARROW – मेजर जनरल राजिंदर सिंह
  • शेर – ए – कश्मीर – शेख मोहम्मद अब्दुल्ला
  • नाइटिंगेल ऑफ़ इंडिया (भारत का कोकिला)          – सरोजिनी नायडू
  • नेताजी – सुभाष चंद्र बोस
  • शांत व्यक्ति – लाल बहादुर शास्त्री
  • सरदार पटेल -IRON MAN         
  • मार्क ट्विन – सैमुअल क्लेमेंस
  • मेडन क्वीन – एलिजाबेथ – प्रथम
  • महाम मोहन – पं। मदन मोहन मालवीय
  • मैन ऑफ डेस्टिनी – नेपोलियन
  • ली – क्वान – पर्ल एस बक
  • लिटिल कॉर्पोरल – नेपोलियन
  • पंजाब केशरी, पंजाब के शेर – लाला लाजपत राय
  • लाल, बाल, पाल                            – लाला लाजपत राय,
  • बाल गंगाधर तिलक, विपिन चंद्र पाल
  • किपर – फील्ड मार्शल के। एम। करिअप्पा
  • किंग मेकर – अर्ल ऑफ़ वर्विशायर
  • . सुभाषचन्द्र बोस ने हिटलर से भारत की स्वतन्त्रता के लिए सहयोग का आश्वासन प्राप्त किया तथा जर्मनी में फ्री इण्डिया सेन्टर स्थापित किया । सुभाषचन्द्र बोस ने सिंगापुर में 21 अक्टूबर 1943 ई ० को आजाद हिन्द सरकार की स्थापना की ।

 

  • सुभाषचन्द्र बोस ने नारा दिया तुम मुझे खून दो , मैं तुम्हें आजादी दूंगा । जापानी सेना के साथ ‘ आजाद हिन्द फौज ‘ ने अंडमान तथा निकोबार द्वीपसमूह पर अधिकार कर लिया था । नेताजी ने अंडमान द्वीप का नाम शहीद द्वीप तथा ‘ निकोबार ” का नाम स्वराज द्वीप रखा ।

 

  • सुभाषचन्द्र बोस की मृत्यु 18 अगस्त , 1945 को फॉर्मोसा द्वीप से टोक्यो जाने के क्रम में एक हवाई दुर्घटना हुई मानी जाती है । द्वितीय विश्वयुद्ध में क्रमश : 6 अगस्त एवं 9 अगस्त , 1945 को जापान के हिरोशिमा एवं नागासाकी पर अमेरिका द्वारा परमाणु बम गिराने जाने के कारण जापान ने आत्मसमर्पण कर दिया । जापान के आत्मसमर्पण के साथ आजाद हिन्द फौज को जापान द्वारा मिलने वाली मदद समाप्त हो गई । आजाद हिन्द फौज के सिपाहियों और अधिकारियों पर दिल्ली के लाल किला में मुकदमा चलाया गया । राजगोपालाचारी ने मुस्लिम लीग और काँग्रेस के बीच समझौते के लिए 10 अगस्त 1944 को एक फार्मूला प्रस्तुत किया जिसे सी ० आर ० फार्मुला कहा जाता है ।

MUST READ ALSO

MUST READ ALSO

 

  • मुस्लिम लीग ने सी ० आर ० फार्मूले को नकार दिया और पाकिस्तान की माँग पर अड़े रहे तथा गाँधीजी के साथ वार्ता को असफल कर दिया । सर्वप्रथम गाँधीजी ने ही मुहम्मद अली जिना को कायदे आजम ( महान नेता ) कहा । 14 जून , 1945 को तत्कालीन वायसराय लॉर्ड वेवेल ने स्वशासन से सम्बन्धित एक योजना प्रस्तुत की जिसे वेवेल योजना कहा जाता है । लॉर्ड वेवेल ने संवैधानिक सुधारों के सवाल पर 25 जून , 1945 को शिमला में एक सर्वदलीय सम्मेलन का आयोजन करवाया । एस ० एम ० आई ० एस ० तलवार नामक जहाज के कर्मचारियों द्वारा खराब खाने की शिकायत के कारण 1946 में शाही नौसेना विद्रोह बम्बई में शुरू हुआ । यह विद्रोह सरदार वल्लभ भाई पटेल तथा जिन्ना के दबाव के कारण 25 फरवरी 1946 ई ० को समाप्त हो गया ।

 

  • सत्ता हस्तांतरण के सवाल पर कैबिनेट मिशन 24 मार्च , 1946 को दिल्ली आया । कैबिनेट मिशन के अध्यक्ष भारत मन्त्री लार्ड पैथिक लारेन्स थे तथा अन्य दो सदस्यों में स्ट्रैफोर्ड क्रिप्स तथा ए ० वी ० अलेक्जेण्डर थे । 16 मई , 1946 को कैबिनेट मिशन ने अपने प्रस्तावों की घोषणा की । गाँधीजी और काँग्रेस ने कैबिनेट मिशन योजना को स्वीकार कर लिया लेकिन मुस्लिम लीग ने इसे अस्वीकृत कर दिया । कैबिनेट मिशन योजना के तहत् 1946 में संविधान सभा का चुनाव 296 सीटों पर हुआ , जिसमें काँग्रेस को 201 तथा मुस्लिम लीग को 73 सीटें प्राप्त हुई ।

 

  • 6 जून , 1946 ई ० को मुस्लिम लीग ने कैबिनेट मिशन प्रस्तावों को स्वीकार करते हुए पाकिस्तान की लक्ष्य – प्राप्ति हेतु संघर्ष जारी रखने का संकल्प लिया । 16 अगस्त , 1946 ई ० को मुस्लिम लीग ने पाकिस्तान को प्राप्त करने के लिए ‘ प्रत्यक्ष कार्यवाही दिवस ‘ मनाया ।

 

  • 2 सितम्बर , 1946 को कैबिनेट मिशन योजना ‘ के अनुसार जवाहरलाल नेहरू के नेतृत्व में अन्तरिम सरकार का गठन किया गया । पाकिस्तान की मांग पूरी न होने के कारण मुस्लिम लीग ने आरम्भ में मन्त्रिमण्डल का बहिष्कार किया । बाद में मुस्लिम लीग इसमें शामिल हुई परन्तु उसने संविधान सभा का बहिष्कार किया ।
  • 20 फरवरी , 1947 ई ० को ब्रिटिश प्रधानमन्त्री एटली ने घोषणा की कि ब्रिटिश सरकार जून , 1948 ई ० तक भारतीयों को सत्ता सौंप देगी ।

 

MUST READ ALSO

MUST READ ALSO

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *