Hstory OneLiner Part 43

 

Hstory OneLiner Part 43

 

भारत के प्रमुख व्यक्तियों के लोकप्रिय उपनाम

 

  • लोकनायक                                             -जयप्रकाश नारायण
  • जननायक -कर्पूरी ठाकुर।
  • गुरुदेव , विश्वकवि , कविगुरु – रवीन्द्रनाथ टैगोर •
  • शहीद – ए – आजम -भगत सिंह
  • – दीनबन्धु – सी . एफ . एण्डूज
  • लिट्ल मास्टर                                    -सुनील गावस्कर
  • बाबूजी          -जगजीवन राम
  • मास्टर ब्लास्ट – सचिन तेंदुलकर
  • राजर्षि          -पुरुषोत्तम दास टंडन
  • शेरे कश्मीर – शेख अब्दुल्ला
  • माता वसन्त – एनी वेसेण्ट
  • देशरत्न , आजातशत्रु , बिहार का गाँधी-                           -डॉ . राजेन्द्र प्रसाद
  • भारतीय पुनर्जागरण के प्रभात नक्षत्र – राजा राममोहन राय
  • बड़े साहब , बिहार विभूति – – डॉ . अनुग्रह नारायण सिंह
  • लौह पुरुष – -सरदार वल्लभ भाई पटेल –
  • राजाजी-                                                      -चक्रवर्ती राजगोपालाचारी
  • , बापू , युगपुरुष , नेकेड , फकीर – महात्मा गाँधी राष्ट्रपिता
  • ताऊ –-          – चौधरी देवीलाल
  • चाचा – पं . जवाहर लाल नेहरू
  • सीमान्त गाँधी – खान अब्दुल गफ्फार खाँ
  • लोकमान्य -बाल गंगाधर तिलक
  • गुरुजी – एम . एस . गोलवलकर
  • आन्ध्र केशरी – टी . प्रकाशम् –
  • नाइटिंगेल ऑफ इण्डिया                           -सरोजिनी नायडू
  • – बिहार केशरी          – श्रीकृष्ण सिंह
  • भारतीय मैकियावेली                                     -चाणक्य
  • – लाल , बाल , पाल – लाला लाजपत राय , बाल गंगाधर तिलक , विपिन चन्द्र पाल –
  • पंजाब केशरी                                    -लाला लाजपत राय –
  • निर्मल हृदय – मदर टेरेसा
  • महामना – पं . मदन मोहन मोहन मालवीय
  • बंगाल केशरी -आशुतोष मुखर्जी
  • – भारत का नेपोलियन          -समुद्रगुप्त
  • हरियाणा हरिकेन – कपिलदेव –
  • – नेताजी                           -सुभाष चन्द्र बोस
  • तूति – ए – हिन्द -अमीर खुसरो
  • भारत का शेक्सपीयर – कालिदास
  • शान्तिपुरुष – लाल बहादुर शास्त्री
  • युवा तुर्क . -चन्द्रशेखर
  • निराला -सूर्यकान्त त्रिपाठी निराला
  • प्रियदर्शी – – सम्राट अशोक
  • विद्रोही कवि-          -काजी नजरूल इस्लाम
  • . मिस्टर क्लीन –राजीव गाँधी
  • हॉकी का जादूगर -ध्यानचंद
  • मैसूर का शेर – टीपू सुल्तान
  • वयोवृद्ध पुरुष          -दादा भाई नौरोजी
  • देशबन्धु                                                       – चितरंजन दास
  • उड़नपरी – पी . टी . ऊषा
  • स्वर कोकिला          -लता मंगेशकर –
  • महबूब – ए – इलाही -शेख निजामुद्दीन

MUST READ THIS

MUST READ THIS

 

  • .1928 में श्रीपाद अमृत डांगे एवं बेन ब्रेडले के सहयोग से स्थापित ‘ लाल बावटा गिरनी कामगार युनियन ‘ पहला क्रान्तिकारी व्यापारिक संघ था । .
  • 1941 में ‘ इण्डियन लेबर फेडरेशन ‘ की स्थापना ।
  • .1918 में गांधीजी ने ‘ अहमदाबाद टेक्सटाइल लेबर एसोसिएशन ‘ की स्थापना की ।
  • कम्पनी की गतिविधियों को नियंत्रित करने के लिए ब्रिटिश संसद ने 1773 में रेग्युलेटिंग एक्ट पारित किया । .
  • रेग्यूलेटिंग एक्ट के तहत ही भारत में एक सर्वोच्च न्यायालय की स्थापना की गयी ।
  • 1784 में पिट्स इण्डिया एक्ट , 1773 के रेग्यूलेटिंग एक्ट की खामियों को दूर करने के लिए पारित किया गया ।
  • .1813 के चार्टर एक्ट से कम्पनी का भारतीय व्यापार पर से एकाधिकार समाप्त हो गया । इसी एक्ट में सर्वप्रथम भारतीयों की शिक्षा तथा साहित्य के प्रोत्साहन के लिए 1 लाख रु ० वार्षिक खर्च करने की व्यवस्था की गयी थी ।
  • 1833 के चार्टर एक्ट के बाद कम्पनी शुद्ध प्रशासनिक संस्था रह गयी , अब बंगाल का गवर्नर जनरल भारत का गवर्नर जनरल बन गया ।
  • 1861 के भारतीय परिषद् अधिनियम द्वारा सर्वप्रथम भारत सरकार की मंत्रिमण्डलीय व्यवस्था की नींव रखी गयी । पहली बार विभागीय प्रणाली की शुरुआत इसी एक्ट से की गयी ।

MUST READ ALSO

MUST READ ALSO

 

  • .1858 के अधिनियम के द्वारा कम्पनी से सारे अधिकार ब्रिटिश काउन के अधीन हो गये । . इस अधिनियम के द्वारा गवर्नर – जनरल का पद वायसराय में परिवर्तित हो गया । . भारत का शासन क्राउन की ओर से देखने के लिए ब्रिटेन में एक ‘ भारत राज्य सचिव ‘ पद की व्यवस्था की गयी ।
  • 1892 के अधिनियम के अन्तर्गत सर्वप्रथम भारतीय सदस्यों को वार्षिक बजट पर बहस करने व उससे सम्बन्धित प्रश्न पूछने का अधिकार दिया गया , पर सदस्यों को मतदान का अधिकार नहीं प्रदान किया गया । .
  • 1909 के मिण्टो- माले सुधार में सर्वप्रथम मसलमानों के लिए पृथकू निर्वाचन क्षेत्र की सुविधा उपलब्ध करायी गयी ।
  • 1919 के माण्टेग्यू- चेम्सफोर्ड सुधार के अन्तर्गत केन्द्र में द्विसदनात्मक व्यवस्था एवं प्रान्तों में द्वैध शासन की व्यवस्था की गयी ।
  • 1919 के सुधारों में ही साम्प्रदायिक निर्वाचन मण्डल को विस्तृत कर सिक्खो , यूरोपीय भारतीय ईसाई , ग्लो – इण्डियन को भी इसमें शामिल कर लिया गया ।
  • 1935 के भारत सरकार अधिनियम के तहत केन्द्र में वैध शासन की व्यवस्था की गयी ।
  • 1935 के अधिनियम में ही प्रान्तों को पूर्ण स्वायत्तता प्रदान करने का प्रयास किया गया ।
  • जवाहर लाल नेहरू ने इस अधिनियम ( 1935 ) को ‘ अनेक ब्रेको बाली , परन्त इन्जन रहित मशीन ‘ की संज्ञा दी ।
  • .1935 के अधिनियम के तहत ही भारतीय रिजर्व बैंक एवं केन्द्र में एक संघीय न्यायालय की स्थापना की गयी ।
    • गवर्नर – जनरल की परिषद् के पहले विधि सदस्य मैकाले थे ।

 

  • विलियम बैंटिक भारत के प्रथम एवं बंगाल के अन्तिम गवर्नर – जनरल लार्ड कैनिंग भारत के अन्तिम गवर्नर – जनरल तथा प्रथम वायसराय थे ।
  • भारत के अन्तिम वायसराय एवं स्वतन्त्र भारत के प्रथम गवर्नर जनरल लार्ड माउन्टबेटन थे । .
  • स्वतन्त्र भारत के पहले एवं अन्तिम भारतीय गवर्नर – जनरल चक्रवर्ती राजगोपालाचारी थे ।
  • ग्राण्ट को आधुनिक शिक्षा का जन्मदाता माना जाता है ।
  • राजा राममोहन राय को आधुनिक शिक्षा का अग्रदूत माना जाता है ।
  • 1837 के बाद सरकारी कार्यों में फारसी के स्थान पर अंग्रेजी का प्रयोग किया जाने लगा ।
  • 1854 के शिक्षा के ‘ वड डिस्पैच ‘ को भारतीय शिक्षा का महाधिकार पत्र ( Magna Carta ) कहा जाता है । ..
  • साइमन कमीशन ने शिक्षा के क्षेत्र में हुए विकास की समीक्षा के लिए हार्टोग समिति की स्थापना की ।
  • प्रौढ शिक्षा के विकास पर विचार हेतु लिंडसे आयोग स्थापित किया गया ।

 

 

  • 1919 में विश्वविद्यालयों का संचालन प्रान्तीय सरकारों को सौंप दिया गया ।
  • 1937 में गाँधीजी के नेतृत्व में ‘ अखिल भारतीय राष्ट्रीय शिक्षा सम्मेलन का आयोजन किया गया ।
  • शिक्षा के क्षेत्र में ‘ अधोमुखी निस्पंदन सिद्धान्त ‘ ( Filtration Theory ) चार्ल्सवड द्वारा लागू किया गया । भारत में सर्वप्रथम ‘ मुद्रणालय ‘ लाने का श्रेय पुर्तगालियों को है ।
  • .1557 में गोवा के पादरियों ने भारत में पहली पुस्तक छापी ।
    • जेम्स ऑगस्टस हिक्की ने 1780 में भारत में ‘ बंगाल गजट ‘ नाम से पहला समाचार पत्र प्रकाशित किया ।
  • जेम्स हिक्की तथा बकिंघम ने पत्रकारिता की प्रारम्भिक अवस्था में ही तटस्थ तथा आलोचनात्मक दृष्टिकोण अपनाकर पत्रकारिता के उच्च आदर्श को स्थापित किया । .
  • किसी भारतीय द्वारा अंग्रेजी में प्रकाशित प्रथम समाचार – पत्र ‘ बंगाल गजट ‘ था । जिसे 1816 में गंगाधर भट्टाचार्य ने प्रकाशित किया ।
  • राजा राममोहन राय को भारत में राष्ट्रीय प्रेस का संस्थापक माना जाता है ।
    स्टेटसमैन अंग्रेजों द्वारा प्रकाशित ऐसा प्रथम समाचार पत्र था जो अपने उदार विचारों के लिए प्रसिद्ध था ।
  • 1878 में लिटन के वर्नाक्यूलर प्रेस अधिनियम से बचने के लिए अमृत बाजार पत्रिका ने रात भर में अपने को बंगाली साप्ताहिक से बदलकर अंग्रेजी साप्ताहिक बना लिया ।
  • 1959 में ईश्वर चन्द्र विद्यासागर द्वारा प्रकाशित समाचार पत्र ‘ सोम प्रकाश ‘ एकमात्र ऐसा समाचार पत्र था जिस पर वर्नाक्यलर अधिनियम लाग किया गया ।
  • कृष्टोदासपाल को भारतीय पत्रकारिता का राजकुमार कहा जाता है । लार्ड मेटकॉफ को भारतीय समाचार पत्रों का ‘ मुक्तिदाता ‘ कहा जाता ‘ बंगदूत ‘ एक ऐसा समाचार पत्र था जो एक साथ बंगला . हिन्दी , फारसी एवं अंग्रेजी में प्रकाशित होता था ।
    • ‘ संध्या ‘ एवं ‘ युगान्तर ‘ पत्रों ने क्रान्ति को प्रोत्साहन दिया ।
    • ‘ मराठा ‘ एवं ‘ केसरी ‘ का तिलक से पहले क्रमशः आगरकर एवं केलकर ने संपादन किया ।
  • 1921 में स्थापित प्रेस कमेटी का अध्यक्ष तेज बहादुर सप्रू को चुना गया । .लार्ड कार्नवालिस को नागरिक सेवा का जन्मदाता माना जाता है ।
  • ‘ राष्ट्रीय शोक दिवस ‘ कब मनाया गया था ? – बंगाल विभाजन लागू होने के दिन .

 

MUST READ ALSO

MUST READ ALSO

  • धार्मिक एवं समाज सुधार आन्दोलन

 

  • एशियाटिक सोसायटी 1784                           विलियम जोन्स
  • ब्रह्म समाज                   1828                           राजा राममोहन राय
  • तत्वबोधिनी सभा 1839                           देवेन्द्रनाथ ठाकुर
  • प्रार्थना समाज 1867                            आत्माराम पांडुरंग
  • आर्य समाज 1875                            दयानन्द सरस्वती
  • रेहनुमाई मजदायासान सभा 1851                   दादाभाई नौरोजी

 

 

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *